ये दुनिया बहुत बड़ी ही यहाँ कई बार आपने ऐसे कई जन्म के वाक्य और देखे होंगे , जिनको सुनकर व देखकर लोग हैरान हो जाते हैं. आज कल जुड़वा बच्चे पैदा होना तो अब कॉमन सी बात हो गयी है . इसके अलावा कई बार ट्रिप्लेट्स की भी न्यूज आती है. लेकिन पिछले साल मोरक्को में रहने वाला एक कपल का जोड़ा  तब चर्चा में आया जब उन्होंने एक साथ नौ बच्चे पैदा किये थे. जी हां, ये दुनिया एक इकलौते नोनुपलेट्स हैं. लेकिन फिलहाल ये सारे बच्चे एक साल के हो चुके हैं. बच्चों के पहले जन्मदिन पर इनके पेरेंट्स ने लोगों के साथ शेयर किया कि इनके जन्म के बाद उनकी लाइफ में क्या-क्या चैलेंज आए हैं. साथ ही कैसे बच्चों के जन्म के बाद से पति-पत्नी की लाइफ बदल गई है?

 

आपको बता दे की माली की रहने वाली 27 वर्ष की हलीमा ने पिछले साल एक साथ नौ बच्चों को जन्म दिया था. अब उसके सारे बच्चे सालभर के हो चुके हैं. हलीमा ने बताया की उसको सबसे ज्यादा दिक्कत अपने बच्चो को सुलाने में  आती है. कोई भी एक समय पर नहीं सोता जिससे उन्हें सबसे ज्यादा दिक्कत होती है. कोई ना कोई बच्चा जगा रहता है, जिस वजह से हलीमा सालभर से अच्छे तरीके से सो नहीं पाई है. इसके अलावा उसके पिता 36 साल के कदर अरबी ने साफ़ कर दिया है कि वो बच्चों के नैपी चेंज नहीं करेगा. इस वजह से हलीमा पर काफी प्रेशर रहता है. बच्चों को बारी-बारी से दूध पिलाने में ही वो थक कर चूर हो जाती है.

हलीमा ने बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड

हलीमा से पहले सबसे ज्यादा बच्चे पैदा करने का रिकॉर्ड ऑक्टोमम नदया सुलेमान के नाम था. इस महिला ने एक साथ आठ बच्चों को जन्म देकर ये रिकॉर्ड हासिल किया था. लेकिन हलीमा ने पिछले साल नौ बच्चों को पैदा कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना डाला. बच्चो का जन्म वैसे तो मई में हुआ था लेकिन उन्हें अगस्त तक, यानी पांच महीने तक वेंटिलेटर पर रखा गया था. उनकी देखभाल के लिए कई नर्स मौजूद थीं. शुरुआत से ही बच्चों को बोतल से दूध पिलाया जाने लगा था क्यूंकि एक साथ नौ बच्चों को मां का दूध मिल पाना संभव नहीं था. इन नौ बच्चों में पांच बेटी और चार बेटे शामिल हैं.

 बच्चों को पालने में आ रहे हैं चैलेंज 

 नौ बच्चों की मां हलीमा ने बताती है कि उसके सारे बच्चे एक दम स्वस्थ हैं. उन्होंने धूमधाम से सबका जन्मदिन मनाया. लेकिन इन्हें पालने में कई तरह के चैलेंज भी हैं. सभी बच्चों को सुलाने में मां-बाप की हालत खराब हो जाती है. सारे बच्चे एक साथ सोते ही नहीं हैं. अगर कुछ सो जाते हैं तो कोई ना कोई उठा रहता है. हलीमा ने बताया कि उसे तो याद भी नहीं है कि आखिरी बार उसकी नींद कब पूरी हुई थी. बच्चों का पिता अरबी मालियन मिलिट्री में है. इस वजह से वो बच्चों से दूर ही रहता है. अभी तक वो सिर्फ दो बार अपने बच्चों से मिल पाया है. ऐसे में हलीमा कई नर्सेस की मदद से बच्चों की देखभाल कर रही है. सारे बच्चे अलग-अलग नेचर के हैं. कुछ शांत हैं तो कुछ रोने वाले हैं. किसी बच्चे को ज्यादा अटेंशन चाहिए होती है. हलीमा को उम्मीद है कि उसके सारे बच्चे ऐसे ही स्वस्थ रहेंगे.