pragya hindi trust deed with dau dayal college

फ़िरोज़ाबाद के दाऊ दयाल महिला महाविद्यालय ने प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट के साथ एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किये हैं. दरअसल नई शिक्षा नीति 2020 के तहत प्रत्येक महाविद्यालय को किसी प्रतिष्ठित संस्था के साथ मिलकर वोकेशनल कोर्स कराने हैं. फ़िरोज़ाबाद में प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट के वर्चस्व, प्रतिष्ठा एवं उच्च स्तर को देखते हुए प्रज्ञा को सर्वोचित पाया और उसके साथ हिंदी लेखन विषय पर वोकेशनल कोर्स कराने का अनुबंध किया है।

नई शिक्षा नीति 2020 के तहत ये है पाठ्यक्रम 

दाऊ दयाल महिला (पी.जी.) कॉलेज फिरोजाबाद में नई शिक्षा नीति 2020 के तहत संचालित विषयों में हिंदी विषय के वोकेशनल कोर्स के रूप में “हिंदी लेखन” एक प्रश्न-पत्र के रूप में समायोजित है। इस प्रश्न-पत्र में तीन इकाइयों का पाठ्यक्रम है जिसमें कविता, कहानी, नाटक, निबंध, गीत , छंद, मुक्तक, लघु कथा, उपन्यास, आत्मकथा, जीवनी, रिपोर्ताज, साक्षात्कार, भेंट वर्ता, डायरी आदि हिंदी की विविध विधाओं के लेखन का प्रशिक्षण दिया जाना है।

अनुबंध पत्र पर किये हस्ताक्षर 

छः माह के इस पाठ्यक्रम को एक निर्धारित अवधि में हिंदी की किसी प्रतिष्ठित पंजीकृत संस्था द्वारा पूर्ण कराए जाने का प्रावधान है। इस उपक्रम को पूर्ण करने हेतु महाविद्यालय ने फिरोजाबाद जनपद की सबसे प्रतिष्ठित संस्था “प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट” के साथ अनुबंध-पत्र पर हस्ताक्षर किए। इस अनुबंध-पत्र के माध्यम से प्रज्ञा हिंदी सेवार्थ संस्थान ट्रस्ट व महाविद्यालय के द्वारा तय किया गया है कि ट्रस्ट के हिंदी विद्वानों द्वारा छात्राओं को हिंदी की विविध विधाओं के लेखन कौशल का प्रशिक्षण दिया जाएगा। तत्पश्चात सभी छात्राओं को वोकेशनल कोर्स का प्रशिक्षण पूर्ण कर लेने पर ट्रस्ट द्वारा लिखित व मौखिक परीक्षा के उपरांत प्रमाण-पत्र भी प्रदान किया जाएगा।

प्रज्ञा के विद्वान देंगे प्रशिक्षण 

ट्रस्ट के प्रबंधक सचिव कृष्ण कुमार “कनक” ने बताया कि ट्रस्ट की ओर से हिंदी की विविध विधाओं के कौशल को विकसित करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने हेतु डॉ. रामसनेही लाल शर्मा “यायावर”, डॉ. श्यामसनेही लाल शर्मा, यशपाल “यश”, प्रवीन पाण्डेय, गौरव गाफिल आदि के साथ-साथ अन्य विद्वान भी छात्राओं को प्रशिक्षित करने हेतु महाविद्यालय में उपस्थित होंगे तथा डॉ. अंजू गोयल जी ट्रस्ट की ओर से इस संपूर्ण वोकेशनल कोर्स वर्क की समन्वयक होंगी। महाविद्यालय की ओर से हिंदी लेखन वोकेशनल कोर्स की प्रमुख डॉ. नमृता निश्चल त्रिपाठी जी ने बताया कि महाविद्यालय की ओर से यह प्रशिक्षण कार्य तो निरंतर चल ही रहा है किंतु ट्रस्ट की ओर से प्रशिक्षण कार्य अगले सप्ताह से प्रारंभ होगा। तत्पश्चात लिखित व मोखिक परीक्षाओं के पश्चात छात्राओं को उनके प्रमाण-पत्र प्रदान किए जाएँगे।
इस अवसर पर दाऊदयाल महिला (पी.जी.) कॉलेज की प्राचार्या प्रोफेसर रेनू वर्मा, डॉ. अंजू गोयल, डॉ. गरिमा सिंह, डॉ. नमृता निश्चल त्रिपाठी आदि उपस्थित रहे।