ज्‍योतिष की नजर से आने वाले 10 दिन बेहद अहम हैं। महीने के आखिर में 30 मई को शनि जयंती पड़ रही है। इस बार 30 साल के बाद शनि जयंती के दिन शनि ग्रह अपनी ही राशि कुंभ में रहकर दुर्लभ संयोग बना रहे हैं।

वहीं इसके बाद 5 जून को शनि उल्टी चाल चलना शुरू करेंगे। वे 23 अक्‍टूबर तक वक्री रहेंगे और 141 दिन सभी राशियों पर इसका बड़ा असर होगा। खासतौर पर 4 राशि वालों के लिए शनि की वक्री चाल बिल्‍कुल भी अच्‍छी नहीं कही जा सकती है। इस दौरान इन राशि के जातकों को बहुत संभलकर रहना चाहिए।

कर्क

कर्क राशि के जातकों को यह समय कई मामलों में परेशान कर सकता है। दुर्घटना, चोट-चपेट का शिकार हो सकते हैं इसलिए वाहन चलाते समय सावधान रहें। आर्थिक स्थिति पर बुरा असर पड़ सकता है या आय में कमी आ सकती है। यह समय बनते काम भी बिगड़वा सकता है इसलिए इस दौरान बड़ा फैसला न लें। हो सके तो ऐसे निर्णयों को कुछ समय के लिए टाल दें। खर्चों पर नियंत्रण रखना भी बेहद जरूरी है।

मेष

वक्री शनि मेष राशि के जातकों को खासा परेशान कर सकते हैं। यह समय आर्थिक हानि करवा सकता है। निवेश करने से बचना ही बेहतर है, वरना मुश्किल में पड़ सकते हैं। मैरिड लाइफ पर भी वक्री शनि असर डालेंगे। घर में झगड़े हो सकते हैं। तनाव, गलतफहमियां बढ़ेंगी।

कुंभ

कुंभ राशि के जातकों के लिए वक्री शनि अशुभ फल दे सकते हैं। इन जातकों को यह समय निजी जिंदगी में परेशानी दे सकता है। शादी या रिश्‍ता होते-होते टूट सकता है। मैरिड लाइफ में गल‍तफहमियां हो सकती हैं। निवेश करने से बचें। किसी से विवाह न करें। अपनों से अच्‍छा व्‍यवहार करें।

मकर

मकर राशि वाले शनि की साढ़े साती झेल रहे हैं। ऐसे में शनि का वक्री होना इनके लिए अच्‍छा नहीं है। यह समय इनके करियर पर बुरा असर डाल सकता है। करियर में बाधाएं-परेशानियां झेलनी पड़ सकती हैं। कड़वा बोलना और गुस्‍सा करना नुकसान करवा सकता है। धन हानि भी हो सकती है। कुल मिलाकर यह समय धैर्य और संयम से निकालें।